जनवरी 03, 2007

नए साल के आग़ाज़ में...

इस बार भी नववर्ष की शुभकामनाएँ के साथ देता हूँ,
सभी को "あけまして おめでとう" (आकेमाशीते ओमेदेतो)

कैसा होगा यह साल और क्या क्या होने वाला है इस साल में, यह तो फ़िलहाल अंदाज़ा भी नहीं, पर उम्मीद है कि गुज़रे साल की तरह अच्छा ही रहेगा.

वैसे, आपको पता है ? सुना है कि सन् 2007 "जापान-भारत मैत्री वर्ष" भी है. इस सिलसिले, दोनों देशों के अनेक जगहों में कुछ सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि भी बहुत आयोजित किए जाएँगे. अगर ऐसे कार्यक्रम में भाग लेने का मौक़ा मिल जाए तो कभी यहाँ लिखूँगा.


बाइ द वे, पिछ्ले साल के अंत में एक छोटा मोटा काम किया, जिसमें एक विशेष डॉक्युमेंटरी प्रोग्राम के लिए हिंदी वग़ैरह का अनुवाद करने का था. नहीं नहीं, ऍग्ज़ैक्ट्ली बोले तो अनुवाद करने में मदद करने का था, मेरा काम तो. मतलब एक भारतीय पेशेवर अनुवादक के साथ बैठे वीडियो टेप देखना, उनके जापानी में अनुवाद कर कहे को टाइपिंग करते जाना, और कहीं बारीक ढंग से अनुवाद करने के लिए सहज जापानी भाषी के रूप में थोड़ी-सी सलाह देना.
मैंने ख़ुद इतना बड़ा काम तो किया ही नहीं, फिर भी करते करते ख़ूब मज़ा आया और अपने लिए बहुत अच्छा अनुभव भी रहा.
वह अनुवादक साहब मूलतः मराठी हैं, फिर भी पक्के मुंबईकर होने के नाते गुजराती भाषा भी थोड़ा-बहुत समझ लेते हैं. और वीडियो-टेप के ज़्यादा हिस्से गुजरात के शहर में शूट किए गए हैं, इस लिए इंडियन-इंग्लिश, हिंदी, मराठी के अलावा गुजराती भी हमारे काम में शामिल हुई.
सो, गुजराती में बहुत बातें सुनते सुनते, और अनुवादक साहब से कुछ पाठ लेने के बाद, लगता है कि मुझे थोड़ी-सी गुजराती भी आ गई.
ज़रा सुनिए तो गुजराती भाषी भाइयो,
" એ કામ મને વધારે સારું લાગ્યું છે !! " (सही ?)

6 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

आपको भी नव वर्ष की शुभकामनायें.

संजय बेंगाणी ने कहा…

बहुत दिनो बाद लिखा है आपने, पढ़ कर अच्छा लगा.
गुजराती में जो लिखा है उसे गलत तो नहीं कह सकते बस "आ काम मने बहु गम्यु" लिखें तो ज्यादा अच्छी तरह से आपकी भावनाएं प्रदर्शित करता. बाकि आपतो गुजराती भी सिख गए. अब गुजराती चिट्ठा कब शुरू कर रहे हैं? :)

Divine India ने कहा…

A Big Hi and A Very Happy New Year To U From India.Good to see ur Blog Its nice keep it up.

Udan Tashtari ने कहा…

अरे, जब हिन्दी लिखते हैं तो वोट तो कर आईये:

http://www.tarakash.com/hbweb/index.aspx


और स्वर्ण कलम के लिये उडन तश्तरी को ढ़ूंढ़ें.
ईश्वर आपकी ढ़ूंढ़ मे साहयता करे अन्यथा मुझे बताईयेगा. :)

Shrish ने कहा…

मोत्सु जी आपको यहाँ पर टैग किया गया है। कृपया जवाब अवश्य लिखें।

और हाँ चाहे आप यह कमेन्ट कितने ही समय बाद उदाहरण के लिए एक साल बाद भी पढ़ें तब भी उत्तर अवश्य दें। हम आपको भूले नहीं हैं।

आपके जवाब की प्रतीक्षा में।

Aditya ने कहा…

I really liked ur post, thanks for sharing. Keep writing. I discovered a good site for bloggers check out this www.blogadda.com, you can submit your blog there, you can get more auidence.